इतनी आसानी से नहीं बन पायेगा चांचौड़ा लटेरी तहसील का नया जिला- सत्या

भले ही चांचौड़ा को जिले के रूप में प्रस्तावित किया जा रहा है,

परंतु जिले के रूप में उसका गठन नमुमकिन जैसा ही है।
जिसके निम्नलिखित कारण है।

  1. चांचौड़ा को चार तहसील चांचौड़ा , कुंभराज , मधुसूदनगढ़ एवं लटेरी को मिला कर बनाया जाएगा।
  2. किसी जिले का गठन राज्य सरकार के अंतर्गत आता है परंतु किसी जिले की तहसील लेकर दूसरे जिले में मिलाने के लिए विशेष नियम है।
  3. तहसीलों का गठन तो राज्य सरकार करती परंतु ब्लॉक या जनपद के गठन केंद्र से होता है।मधुसूदनगढ़ अभी राधौगढ़ जनपद के अंतर्गत है। मधुसूदनगढ़ को अलग जिले में हो जाने से उसे या तो अलग जनपद बनानी पड़ेगी या किसी जनपद जैसे लटेरी या कुंभराज में जोड़ी जाएगी जिसका अधिकार केंद्र को है।
  4. नया ब्लॉक गठन केंद्र के द्वारा होता है। मधुसूदनगढ़ में इतनी पंचायत या जनसंख्या नही है कि उसे अलग ब्लॉक बनाया जाय।
  5. अगर लटेरी में मधुसूदनगढ़ जुड़ता है तो यह सम्भव नही है क्योंकि लटेरी और मधुसूधनगढ़ की भूराजस्वसंहिता ( तहसील एवं sdm कार्य) अलग अलग है।
  6. अलग जिला बनने से जिला पंचायत का गठन होगा जो अलग व्यवस्था के अंतर्गत है।
  7. विधानसभा क्षेत्रों में परिवर्तन करना होगा जो परिसीमन में ही संभव है।
  8. श्रोत DekhoLateri.com के एडिटर @dekholateri-com Satya narayan chouksey सत्यनारायणं चौकसे ने संकलन किये हैं।