लटेरी के सुमित कृष्ण महाराज चैन्नई शहर में कर रहे भागवत कथा

भागवत सेवा परिवार के तत्वाधान में शिरडी साईं मंदिर, चैरिटेबल ट्रस्ट चैन्नई, तमिलनाडु द्वारा तमिलनाडु के महानगर चैन्नई शहर में आयोजित हो रही भागवत कथा में कथा का वाचन लटेरी में जन्में और श्रीधाम बृंदावन में दिक्षित गोवत्स पं. सुमित कृष्ण महाराज कर रहे हैं, जो बटबार परिवार ही नहीं पुरे लटेरी क्षेत्र के लिए गौरव की बात है।

ज्ञत हो कि लटेरी के निर्धन बृहाम्ण बटवार परिवार में जन्मे सुमित कृष्ण जी को बाल काल से उनके माता-पिता ने उनको अध्ययन के लिए श्रीधाम बृंदावन भैज दिया था, जहाँ वैदिक यात्रा गुरुकुल भागवत भूषण पुराण आचार्य पंडित श्री श्रीनाथ शास्त्री जी के सानिध्य में रहकर सभी धर्म शास्त्रों का विधिवत अध्ययन करते हुए उनके गुरु जी ने गोसेवा में उनका अधिक प्रेम व रुचि देखते हुए सभी संतो ने आपको गोवत्स की उपाधि प्रदान की अभी भी आप सभी संतों के सानिध्य में रहकर भारत के कई प्रदेशों में आपने भागवत कथा का वाचन किया है। जिनमें हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, तमिलनाडु, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश प्रमुख रूप से शामिल हैं.

फ्रीलांस पत्रकार सत्यनारायण चौकसे को फोन पर दिये अपने साक्षात्कार में सुमित कृष्ण जी कहते हैं उनके जीवन के लक्ष्य हैं।
1 पहला हमारा पूरा जीवन गौ सेवा के लिए समर्पित है।
2 दुसरा गरीबों की बुजुर्गों की सेवा ही हमारे लिए भगवत सेवा है।
3 तीसरा देश के युवाओं को भी इन्हीं सत्मार्गों पर चलाने के लिए भागवत धर्म का प्रचार कर रहे हैं। क्योंकि हमारा मनना है, नर सेवा ही नारायण सेवा है।

छोटीसी उम्र में सुमित कृष्ण महाराज द्वारा चैन्नई जैसे महानगरों में भागवत कथा, धर्म प्रचार करने पर लटेरी नगर के लोग हर्ष के साथ अपने आप को गौरवान्वित मेहसूस कर रहे हैं, ओर सुमित कृष्ण महाराज को लटेरी क्षेत्र का नाम पुरे देश में रोशन करने के लिए बधाइयाँ दे रहे हैं।

Satyanarayan Chouksey

Jay ho lateri