लटेरी में 76 वर्षों से लगातार किया जा रहा रामलीला का मंचन पहले लटेरी के स्थानीय लोग ही करते थे रामलीला में अभिनय

हनुमान जन्मोत्सव में रामलीला का अवलोकन करने पधारे विधायक उमाकांत शर्मा

लटेरी से सत्यनारायण चौकसे की विशेष रिपोर्ट

लटेरी- तालाब वाले हनुमान मंदिर पर विगत हनुमान जयंती से मथुरा की मंडली द्वारा मंचित की जा रही रामलीला में आज क्षेत्रीय विधायक उमाकांत शर्मा रामलीला देखने पधारे जिसमें उन्होंने रामदरबार ओर रामलीला मंडली व श्री हनुमान मंदिर के प्रधान पुजारी अशोक जी भार्गव का साल श्री फल से सम्मान करते हुए कहा कि लटेरी होने वाली रामलीला विगत सत्तर वर्षों से संचालित हो रही है, जिसमें पहले लटेरी के स्थानीय लोगों द्वारा रामलीला का मंचन किया जाता था। लटेरी की रामलीला दूर दूर तक प्रसिद्ध थी।

इस अवसर पर रामलीला के पुराने कलाकार श्री बाबूलाल फुफाजी ने कहा कि हमारे गुरु स्वर्गीय पंडित कामता प्रसाद दुवे के संरक्षण में जो रोल हम कलाकारों को दिया जाता था उसमें व्यास गद्दी पर स्वर्गीय पंडित कमल लाल चतुर्वेदी बैठते थे. एंव रामजी के रोल ओम बटवार, लक्ष्मण जी सुरेश अग्रवाल भाईजी, सीता जी वरिष्ठ पत्रकार श्याम चतुर्वेदी, हनुमानजी गोपाल महाराज, रावण जानकीनाथ महाराज, कुंभकरण स्वर्गीय अनन्दीलाल सेन, परषुराम स्वर्गीय शिवप्रकाश दुवे, कैकेयी बाबूलाल अग्रवाल, एवं अन्य पात्रों के रोल में जगदीश पाराशर, घनश्याम अग्रवाल, बीडी शर्मा, कोमल प्रसाद चौकसे, अमन शर्मा, भैया पुरी गोस्वामी आदि लोग बनते थे। इसके बाद रामलीला का संचालन धर्माधिकारी स्वर्गीय हरिनारायण भार्गव (रामजी) द्वारा कई वर्षों तक किया जाता रहा।

हनुमान मंदिर के पुजारी विष्णु गुरु ने बताया रामलीला मेले में आनंदीलाल टेलर, धन्नुलाल अहिरवार, सचिन अग्रवाल, माईक संचालक शिवओम दुवे, पुर्व नगरपालिका उपाध्यक्ष रुपेश अग्रवाल, राजेश राजपूत, शुद्धि गोस्वामी, टिल्लू पेंटर, गौरव शास्त्री, राजकुमार शर्मा माससाहब, मिलन राजपूत, महेंद्र मारसाब, सत्यनारायण चौकसे, मुकेश विश्वकर्मा, राजु पंडित चाईना, सैतान यादव, लक्ष्मीकांत दुवे, महेश कुशवाह, रामेश्वर विश्वकर्मा, भारत सहित समस्त लटेरी वासियों का विशेष सहयोग रहता है।

Satyanarayan Chouksey

Jay ho lateri