नेशनल वॉर मेमोरियल: 58 साल बाद पूरा हुआ सपना, पीएम बोले- सेना को बनाया गया कमाई का साधन

नेशनल वॉर मेमोरियल: 58 साल बाद पूरा हुआ सपना, पीएम बोले- सेना को बनाया गया कमाई का साधन

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार 25 फरवरी को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का उद्घाटन कर दिया। उन्होंने कहा, कि स्मारक की मांग कई दशक से निरंतर हो रही थी। बीते दशकों में एक-दो बार प्रयास हुए लेकिन कुछ ठोस हो नहीं पाया। उन्होंने कहा, ‘आपके आशीर्वाद से साल 2014 में हमने स्मारक बनाने के लिए प्रक्रिया शुरु की और आज तय समय से पहले ही इसका लोकार्पण हो रहा है।

बता दें कि स्वतंत्रता के बाद शहीद हुए सैनिकों की याद में इंडिया गेट के पास नेशनल वॉर मेमोरियल बनाया गया है। मेमोरियल 40 एकड़ में स्थित है। एक अधिकारी के मुताबिक, इस प्रोजेक्ट पर करीब 176 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं।

सेना को बनाया कमाई का साधन-पीएम मोदी

पीएम मोदी ने राफेल के मसले पर जवाब देते हुए कांग्रेस पर पलटवार किया। उन्होंने कांग्रेस सरकारों के दौरान हुए रक्षा सौदों और सेना की अनदेखी के आरोप लगाते हुए राफेल को रोकने की साजिश का आरोप लगाया।

पीएम मोदी ने कहा कि पहले सरकारों ने देश के वीर बेटे-बेटियों के साथ सैनिकों और राष्ट्र की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ किया गया। यहां तक कि सेना के लिए बुलेट प्रूफ जैकेट नहीं खरीदी गईं, लेकिन हमारी सरकार ने 2 लाख 30 हजार से ज्यादा बुलेट प्रूफ जैकेट खरीदीं। पीएम मोदी ने यह भी आरोप लगाया कि पहले सरकारों ने अपनी कमाई का साधन बना लिया था।

बोफोर्स से लेकर हेलीकॉप्टर तक, सारी जांच का एक ही परिवार तक पहुंचना, बहुत कुछ कह जाता है। अब यही लोग पूरी ताकत लगा रहे हैं कि भारत में राफेल विमान न आ पाए।

पीएम मोदी ने आगे कहा अगले कुछ महीनों में जब देश का पहला राफेल, भारत के आसमान में उड़ान भरेगा, तो खुद ही इनकी सारी साजिशों को ध्वस्त कर देगा

मेमोरियल की 16 दीवारों पर 25,942 शहीदों के नाम लिखे गए हैं। नाम, रैंक और रेजिमेंट का उल्लेख किया गया है। बीते साल फरवरी में मेमोरियल के निर्माण का काम शुरू हुआ और इस साल फरवरी तक रिकॉर्ड टाइम में इसे बना लिया गया।

Satyanarayan Chouksey

Jay ho lateri